Subscribe Now

* You will receive the latest news and updates on your favorite celebrities!

Trending News

Blog Post

गीत

प्रिय कहें श्रृंगारिके तुम 

प्रिय कहें श्रृंगारिके तुम
इस तरह श्रृंगार करना
नेह का सिंदूर ले कर
तुम सुभग सीमन्त भरना

सूर्य जैसी शोभती है
भाल पर बिंदी सुहागिन।
और कज्जल शर्वरी में
ऊँघती सी एक धामिन।
शुभ्र मुक्ता हार से तुम
वेदना सम्पूर्ण हरना।।

नथ चमकती चंद्रिका सम
कर्ण फूलों में महक है।
अध बुझे अंगार की ज्यों
दग्ध अधरों पर दहक है।
चूड़ियों की है खनक या
खिलखिलाता एक झरना।।

है महावर शुभ्र त्रिपटी
पर सुशोभित रक्त चंदन।
मुद्रिका ज्यों तर्जनी का
लाजवर्दी प्रात वंदन।
कृष्ण मेघों सी लटों में
दामिनी सम पुष्प धरना।।

Leave your vote

Related posts

Leave a Reply

Required fields are marked *

Log In

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy

Add to Collection

No Collections

Here you'll find all collections you've created before.